Swing Trading in Hindi 2024 | Swing trading क्या होता है और इसे best trading क्यूँ कहते है

ट्रेडिंग की दुनिया में मूल रूप से चार प्रकार के ट्रेडिंग होते हैं और Swing trading in hindi एक प्रकार की ट्रेडिंग है। आपको पूरा यकीन होना चाहिए कि आप ट्रेडिंग कर रहे हैं और निवेश नहीं कर रहे हैं। इसके लिए आपको स्टॉप लॉस लगाना अनिवार्य होता है |

यदि आप स्टॉप लॉस नहीं रखते हैं और आपने अच्छी कंपनी में ट्रेड किया है तो आप निश्चित रूप से इसे औसत करने की कोशिश करेंगे । इसलिए, जब आप स्विंग ट्रेडिंग कर रहे हों तो स्टॉप लॉस होना हमेशा बेहतर होता है।

Swing trading in hindi
Swing trading in hindi

Table of Contents

स्विंग ट्रेडिंग क्या है ? | Swing trading kya hai | what is swing trading in hindi ?

स्विंग ट्रेडिंग एक तरह का टेंशन फ्री ट्रेडिंग है, जिसमें आपको पूरे दिन कंप्यूटर पर बैठकर स्क्रीन पर देखने की जरूरत नहीं है। स्विंग ट्रेडिंग करने वाले व्यक्ति को स्विंग ट्रेडर के रूप में जाना जाता है।

स्विंग ट्रेडिंग में आप स्टॉक को डिमांड ज़ोन में खरीदते हैं और स्टॉक को तब तक होल्ड करते हैं जब तक आपका टारगेट नहीं मिल जाता या  सप्लाई ज़ोन तक नहीं पहुँच जाता और तब जाकर आप स्टॉक को बेच देते हैं। यह एक प्रकार का स्विंग ट्रेडिंग है।

स्विंग ट्रेडिंग के अन्य प्रकारों में जैसे ब्रेकआउट पर स्टॉक खरीदना और उचित रिस्क रिवॉर्ड के साथ लक्ष्य पर इसे बेचना, यह भी इसी में आता है।

Swing Trading meaning in hindi

अगर आप swing trading meaning खोज रहे हैं तो स्विंग ट्रेडिंग का मतलब साफ होता है | ऐसी ट्रेडिंग जिसमे स्विंग (स्विंग हाई और स्विंग लो) टूटने पर ट्रेडिंग की की जाती है, वैसी ट्रेडिंग को स्विंग ट्रेडिंग कहा जाता है |

परंतु आज के समय में आप सिर्फ स्विंग टूटने पर स्विंग ट्रेडिंग नहीं का बल्कि आप सपोर्ट और रेसिस्टेंस की मदद से भी स्विंग ट्रेडिंग कर सकते हैं |

Intraday vs swing trading

Investopedia के हिसाब से इंट्राडे ट्रेडिंग में आपको उसी दिन स्टॉक खरीदना और बेचना होता है। जबकि स्विंग ट्रेड में आप शेयरों को 5 से 10 दिनों तक या अपने लक्ष्य तक पहुंचने तक रख सकते हैं। swing trading vs day trading में सबसे बड़ा अंतर यही है |

Positional trading vs swing trading

स्विंग ट्रेडिंग पोजिशनल ट्रेडिंग का छोटा भाई है। स्विंग ट्रेड में आप 5-10 दिनों के लिए स्टॉक रखते हैं जबकि पोजिशनल ट्रेडिंग में आप स्टॉक को कई हफ्तों से लेकर महीनों तक रखते हैं।

Altcoin की पूरी जानकारी

Swing trading vs long term investing

Swing Trading Long Term investing
स्विंग ट्रेडिंग में हम 5 से 6 दिन के लिए स्टॉक को खरीदते हैंlong-term investing में हम स्टॉक को कई सालों तक खरीद कर रखते हैं
स्विंग ट्रेडिंग में हमें 5% से लेकर 6% तक का मुनाफा हो सकता हैवहीं लॉन्ग टर्म इन्वेस्टिंग में हमारा इन्वेस्टमेंट 500% से 1000% बढ़ सकता है
स्विंग ट्रेडिंग में आपको स्टॉक के सपोर्ट या ब्रेकआउट का इंतज़ार करना पड़ता हैलॉन्ग टर्म इन्वेस्टिंग में आपको बस स्टॉक को उसके इंट्रिनसिन्स वैल्यू से कम में खरीदना रहता है
स्विंग ट्रेडिंग में आपको technical analysis का ज्ञान होना जरूरी हैलॉन्ग टर्म इन्वेस्टिंग में आपको fundamental analysis का ज्ञान होना चाहिए
स्विंग ट्रेडिंग अधिकतर ट्रेडर करते हैंऔर जहाँ इन्वेस्टिंग की बात आती है तो वहां इन्वेस्टर की भूमिका आ जाती है

Swing trading in hindi के नियम

आपकी ट्रेडिंग रणनीतियों के अनुसार नियमों को बनाया जा सकता है। लेकिन कुछ बुनियादी नियम हैं जिन्हें हमें ट्रेड करने से पहले ध्यान में रखना चाहिए।

1. हम कोई भी ट्रेडिंग कर रहे हो, इंट्राडे या स्विंग ट्रेडिंग, हमें हमेशा स्टॉप लॉस बनाए रखना चाहिए। जैसे अगर रातों रात शेयरों के लिए कोई बुरी खबर आती है, आप ट्रेडिंग कर रहे हैं और अगली सुबह अगर यह भारी गिरावट आती है तो आप स्टॉप लॉस से और कुछ लाभ के साथ बच जाएंगे।

2. अगला नियम जो आपको ध्यान में रखना चाहिए वह है राशि, जो आप व्यापार के लिए जोखिम में डाल रहे हैं। आप एक ट्रेड में पूरी राशि को जोखिम में नहीं डाल सकते। अगर एक बार में सब पैसे लगा दिए और उसके बाद आपके पास ट्रेड करने के लिए पैसे ही नहीं रहेगा तोह आप ट्रेड कैसे करोगे |

Swing trading एक्सपेक्टेड रिटर्न

कम से कम आप एक ट्रेड पर 6 से 10% का रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप एक महीने में 2 या 3 ट्रेड करते हैं तो आप लगभग अपने  ट्रेडिंग पूंजी पर 25 से 30% रिटर्न जेनेरेट कर सकते हो |

Hammer candlestick pattern in Hindi

Best time frame for Swing trading

डेली (daily) टाइम फ्रेम को सबसे best time frame for swing trading कहे तो गलत नहीं होगा | स्विंग ट्रेडिंग आप 1 घंटे की टाइम फ्रेम में भी कर सकते हैं, लेकिन कम टाइम फ्रेम में अस्थिरता बहुत अधिक होती है, जिससे आपका स्टॉप – लॉस हिट हो सकता है |

यदि आप अपने लिय हुए ट्रेडों को देखने की आदत रखते हैं तो आप स्क्रीन पर नुकसान देखकर डर क कारण उसे बेच भी सकते हैं।

इसलिए, यह सलाह दी जाती है कि यदि आप स्टॉप लॉस लगाते हैं तो आपको पता चलेगा कि कितना नुकसान होगा तो आप मानसिक रूप से उतने नुकसान के लिए तैयार रहते हो ।

स्विंग ट्रेडिंग के लिए स्टॉक कैसे चुने | how to find volatile stocks for swing trading?

वैसे हमने इसके ऊपर पूरा लेख लिखा हुआ है, जिसे आप पढ़ सकते हैं | स्विंग ट्रेडिंग के लिए स्टॉक कैसे चुने

  • पहले तो आपको high beta स्टॉक्स ढूढ़ने हैं | high beta स्टॉक्स उनको बोला जाता है जिनमे volatility या यूँ कहिये movement ज़्यादा होता है | बैंकिंग और फाइनेंस वाले स्टॉक्स को high beta स्टॉक्स कहते हैं |
  • आपके पास कम से कम 25 से अधिक स्टॉक्स की लिस्ट होनी चाहिए जिसमे आप स्विंग ट्रेडिंग कर सकते हों | आप ऐसे स्टॉक्स की लिस्ट भी बना सकते हैं | आप tickertape पर जाकर ऐसे स्टॉक्स ढूढ़ सकते हैं |
  • जब आपके पास ऐसे स्टॉक्स की लिस्ट बन जाए तो आपको फिर उसमे देखना है की स्टॉक्स अपट्रेंड में है, downtrend में है या sideways है | uptrend stocks for swing trading को सबसे बढ़िया माना जाता है स्विंग ट्रेडिंग के लिए |
  • इसके अलावा आपको ब्रेकआउट/ ब्रेकडाउन वाले स्टॉक्स को भी देखना है | ऐसे जगह पर कौन सी कैंडलस्टिक पैटर्न बन रही है, उसे भी ध्यान से देखना है |

Best stocks for Swing trading

जिस शेयर में वोलैटिलिटी (बहुत ज़्यादा ऊपर निचे होना कम समय में) होती है उसमे स्विंग ट्रेड अच्छे से होगा , और जब तक आप equity में कर रहे हो, तब तक आप सिर्फ  खरीद कर पैसे बना सकते हो । जरुरी तो नहीं कि मार्केट हमेश ऊपर जाए, अगर निचे जायेगा तब क्या करोगे ?

अगर आपको सेलिंग भी करना है तो आपको उसके लिए डेरिवेटिव (future और options) सीखना पड़ेगा, जिसमे रिस्क बढ़ जाता है और एडवांस भी बहुत है |

अगर आप शुरुआत कर रहे हो तो आपको पहले सिर्फ कैश में कर के देखना चाहिए | जैसे – जैसे आपको लगने लगे आपने महारत हासिल कर ली है तब जाकर आप फ्यूचर और ऑप्शन करें |

Risk per trade on swing trading

रिस्क पर ट्रेड बहुत ही महत्वपूर्ण कारण है क्योंकि इसी से तय होगा कि आपको कितनी मात्रा में शेयर को खरीदना है  खरीदना है और आपका कितना टारगेट होगा। उदाहरण-

आपके पास 50,000 रुपये है और आपको 5000 का xyz शेयर ख़रीदना है स्विंग ट्रेडिंग के लिए। और उसमे भी 5000 में आप 1000 का रिस्क ले रे हो। उदहारण –

शेयर का एंट्री प्राइस – 130 रुपये

स्टॉप लॉस – 20

मात्रा (quantity) – 1000/20 = 50

आर्डर वैल्यू – 130*50 = 6500

लक्ष्य = 1:2, (20*2 =40), 130+40 = 170

लाभ = 40*50 = 2000) और अगर स्टॉप लॉस होता तो 1000 रु. का लॉस होता

1:3 लक्ष्य आप कैलकुलेट कर के कमेंट करे

इस प्रकार आप रिस्क पर  ट्रेड अपने जोखिम की गणना कर सकते हैं।

Candlestick pattern for swing trading

स्विंग ट्रेडिंग के लिए आपको रिवर्सल पैटर्न ढूढ़ने की कोशिश करनी चाहिए। रिवर्सल पैटर्न वो पैटर्न होते हैं जब ट्रेंड रिवर्स होने वाला होता है और अगर ये पैटर्न आपको डिमांड या सप्लाई जोन के पास मिल जाते हैं तो ट्रेड की सफलता होने की संभावना बढ़ जाती है।

डिमांड जोन के पास रिवर्सल पैटर्न का उदाहरण = हैमर, बुलिश हरामी, बुलिश एनगल्फिंग, मॉर्निंग स्टार और भी बहुत सारे होते हैं पर इनकी सफलता होने की संभावना ज्यादा होते हैं।

Best chart pattern for swing trading

वैस चार्ट पैटर्न दो प्रकार के होते हैं एक रेवेर्सल चार्ट पैटर्न और दूसरा continuation chart pattern, अब आपको क्या करना है दोनो चार्ट पैटर्न में से आप कुछ चुनिंदा पैटर्न का चयन कर सकते हैं जो बार बार दिखलाई देते हैं चार्ट पर और उसे ट्रेड कर सकते हैं |

Reversal chart pattern –

  1. Double top
  2. Double bottom
  3. Head and shoulder
  4. Rounding bottom

Continuation chart patterns

  1. Bullish / bearish rectangle
  2.  Ascending/ descending triangle
  3. Flag pattern

वैसे तो इनके अलावा और भी बहुत सारे चार्ट पैटर्न होते हैं। कुछ को ही याद रखना पर अच्छे से याद रखना। पहले आप इन पैटर्न्स पर ट्रेड कर के कॉन्फिडेंस बिल्ड अप करो उसके बाद आप नए पैटर्न्स के बारे में सीख सकते हो । क्यूंकि हमें सीखना हमेशा पड़ेगा सीखना बंद कमाना बंद |

Best moving average for swing trading

अगर आप मूविंग एवरेज से स्विंग ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको 20 और 50 मूविंग एवरेज का इस्तेमाल करना चाहिए |

20 मूविंग एवरेज में आपको कुछ दिन के ट्रेड मिलेंगे तो वहीं 50 मूविंग एवरेज में कुछ दिन से हफ्ते तक के ट्रेड मिल सकते हैं |

Moving Average Trading Strategies in hindi

Swing trading के फ़ायदे

1. अगर आपने स्विंग ट्रेडिंग का मन बना लिया है तो आप पूरा टाइम स्क्रीन पर तो नहीं बैठना चाहते हैं इसलिय आपने इसे चुना है। यही आपका सबसे पहला फायदा है। नो स्क्रीन नो हेल्थ इशू |

आपको पूरे समय बैठना नहीं पड़ेगा, कुछ समय दिजिये, टारगेट और स्टॉप लॉस दाल के आप अपने दूसरे काम कर सकते हैं।

2. इस तरह के ट्रेडिंग से आप कम से कम 7 से 10% तक का प्रॉफिट एक ट्रेड से कमा सकते हो, और आपने 2 या 3 ट्रेड भी लिया एक माहिन में  तो आप 20-30% रिटर्न कमा सकते हो अपने कैपिटल पर।

Swing trading के नुशान

  1. ये बिलकुल भी जरूरी नहीं है कि आपने जब ट्रेड लिया तो ऊपर जाएगा। एक बुरी खबर उस कंपनी की आई तो उसके स्टॉक को गिरने से कोई रोक नी सकेगा ।

अगर आपने स्टॉप लॉस नहीं लगा के रखा तो, आपका पैसा बहुत कम हो जाएगा और आपको पता भी नहीं लग पायेगा कि हुआ क्या, इतना नीचे कैसे आ गया।

2. कभी-कभी ये आपके सब्र को चेक कर सकती है। बहुत बार ऐसा होता है की कोई स्टॉक कुछ दिन तक एक ही प्राइस रेंज के बीच में  घुमता रहता है और आप तंग आकर उसको बेच दोगे  और 2 दिन बाद जो ऊपर चला जाएगा।

How to swing trade with the help of options? | ऑप्शन की मदद से स्विंग ट्रेडिंग कैसे करें?

आप ऑप्शंस  डेटा की मदद से अपना स्विंग ट्रेड प्लान कर सकते हैं, कैसे? चलिये देखते हैं स्टेप बाय स्टेप-

1. गूगल पर आपको सर्च करना है ऑप्शन चेन फिर उसके बाद जो सबसे पहली साइट आएगी उसे क्लिक करें।

2. साइट खोलने के बाद आप सिंबल सिलेक्ट करें फिर उस स्टॉक को सेलेक्ट करें जिस्का आपको डेटा देखना है |

3. उसमे आपको लेफ्ट साइड में कॉल (call) और राइट साइड में पुट (Put) का डेटा दिखेगा।

4. आपको OI (ओपन इंटरेस्ट) का डेटा चेक करना है, लेफ्ट साइड में जहां OI सबसे ज्यादा होगा वो आपका रेजिस्टेंस होगा और राइट साइड में जहां OI सबसे ज्यादा होगा वो आपका एक सपोर्ट के रूप में काम करेगा पर इसका मतलब ये नहीं है की सपोर्ट और रेजिस्टेंस टूटेगा नहीं |

आपको रेजिस्टेंस और सपोर्ट पर ट्रेंड रिवर्सल कैंडलस्टिक पैटर्न को ढूंढ़ कर अपना ट्रेड एक्जीक्यूट करना है।

Swing trading as a career

आपको ट्रेडिंग एज़ ए करियर के रूप में तभी अपनाना चाहिए जब आपको आपकी ट्रेडिंग से आपके जॉब और उससे ज्यादा पैसा आने लगे तब आप इसे करियर के रूप में अपना सकते हो पर उसके लिए आपको और भी दुसरे तरीके के ट्रेडिंग सीखने पड़ेंगे | इसमें आपको टाइम लग सकता है।

Swing trading success rate

ट्रेडिंग की सक्सेस रेट ट्रेडिंग करने वाले के ऊपर निर्भर करती है | आपपे निर्भर करेगा आप कितने बखूभी  से किसी ट्रेड को लेटे हो और एक्सेक्यूट करते हो। ये हर इंसान का अलग होगा । अगर आप 10 में से 7 व्यापार भी अच्छे से  एक्सेक्यूट कर लेते हैं तो आप अच्छा पैसा बना लोगे।

Swing Trading in Hindi FAQ

स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे बढ़िया टाइम फ्रेम कौन सा है ? | which time frame is best for swing trading?

डेली टाइम फ्रेम को स्विंग ट्रेडिंग के लिए सबसे बढ़िया टाइम फ्रेम माना जाता है | स्विंग ट्रेडिंग के लिए आप डेली टाइम फ्रेम इस्तेमाल कर सकते है | डेली के अलावा आप 1 hour का टाइम फ्रेम भी इस्तेमाल कर सकते हैं |

क्या स्विंग ट्रेडिंग को ऑप्शन के साथ कर सकते हैं ? | can swing trading be done with the help of options ?

हाँ, स्विंग ट्रेडिंग को ऑप्शन के साथ किया जा सकता है परंतु आपको ऐसे स्टॉक को चुनना होगा जिसमे मूवमेंट जल्दी आता हो |

Swing trading as a career कैसा रहेगा ?

जब आपको आपकी ट्रेडिंग से आपके जॉब और उससे ज्यादा पैसा आने लगे तब आप ट्रेडिंग को करियर बना सकते हैं | अगर आपको स्विंग ट्रेडिंग को करिअर बनाना है तो उसके लिए आपके पास पैसे ज्यादा होने चाहिए |

स्विंग ट्रेडिंग का सक्सेस रेट क्या है ? Swing trading success rate

स्विंग ट्रेडिंग का सक्सेस रेट 65% से 70% देखा गया है |

स्विंग ट्रेडिंग करने के लिए कितने पैसों की आवश्यकता होती है ? | capital required to do swing trading

स्विंग ट्रेडिंग के लिए आपके पास कम से कम 10 से 20 हजार रुपये तो होने ही चाहिए | अगर आपके पास 1 लाख रुपये हैं तो आप स्विंग ट्रेडिंग और अच्छे से कर सकते हैं |

मेरा नाम कौशल कुमार है और मैं इस वेबसाईट का संस्थापक हूँ | मैं इस वेबसाईट के माध्यम से आप सभी को शेयर मार्केट की बारीक जानकारियों को बताना चाहता हूँ जिससे आप भी शेयर मार्केट से पैसे कमा सकें | मैं शेयर मार्केट में काफी समय से काम कर रहा हूँ और मेरा उद्देश है कि अपने अनुभव को आप तक पहुंचा सकूँ |

23 thoughts on “Swing Trading in Hindi 2024 | Swing trading क्या होता है और इसे best trading क्यूँ कहते है”

  1. I want to learn swing trading

    Reply

Leave a Comment