Bullish Engulfing Pattern in Hindi 2024

नमस्कार दोस्तों, आज के इस लेख में हम Bullish Engulfing Pattern in hindi के बारे में समझेंगे जैसे कि –
Bullish engulfing candlestick pattern in hindi क्या होता है, बुलिश एंगलफिंग कैंडलस्टिक पैटर्न का मतलब क्या होता है (engulfing candle meaning in hindi) और इस  पैटर्न को हम कैसे ट्रेड कर सकते हैं | 

इसके अलावा हम इस पैटर्न के सक्सेस रेट और रिलायबिलिटी के बारे में भी जानेगें और यह भी देखेंगे कि बुलिश और बेयरिश कैंडलस्टिक पैटर्न के बीच में अंतर क्या होता है | तो चलिए शुरू करते हैं | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न क्या होता है? | What is bullish Engulfing pattern?

Bullish engulfing pattern in hindi एक तरह का बुलिश रिवर्सल कैंडलस्टिक पैटर्न है, जो ट्रेंड रेवेर्सल की तरफ इशारा करता है |

यह पैटर्न तब बनता है जब पिछले कैंडल लाल होता है और अगले दिन का कैन्डल एक बड़ा हरा कैंडल बनता है जो पिछले दिन के लाल कैंडल को अपने अंदर पूरा समा लेता है | 

ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि यह पिछले लाल कैंडल के क्लोजिंग प्राइस के निचे खुलता है और पिछले दिन के लाल कैंडल के ओपनिंग प्राइस के ऊपर बंद होता है | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न का मतलब |
bullish engulfing meaning in hindi

इसका नाम engulfing pattern क्यूँ पड़ा, चलिए इसके नाम के मतलब engulfing candle meaning in hindi को समझते हैं |

engulfing का मतलब होता है अपने में समा लेना | अगर आप दूसरे दिन के कैन्डल को देखेंगे तो आप समझ पाएंगे कि दूसरे दिन का कैन्डल पहले दिन के कैन्डल को पूरा समा लेता है | इसलीय इसका नाम engulfing pattern in hindi पड़ा |

चूंकि इसमे जो पहले दिन की कैन्डल बनती है वह छोटी होने के कारण पूरा समा जाती है, इसलिए उस कैन्डल को हम engulfing candle in hindi कहते हैं |

अगर यह पैटर्न आपको दिख जाए तो आप यह समझ सकते हैं कि पिछला डाउन ट्रेड ख़तम होने वाला है और अब यहाँ से अपट्रेंड चालू हो सकता है | 

यह पैटर्न अधिकतर मजबूत डाउन ट्रेंड के बाद बनता है इसलिए आपको न सिर्फ यह पैटर्न देखना है पर इसके साथ – साथ इसके पहले का ट्रेंड, उसके कैंडलस्टिक और engulfing pattern in hindi बनने के बाद के कैंडलस्टिक को भी ध्यान से देखना है | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न कैसे बनता है? | How Bullish Engulfing pattern form?

बुलिश एंगलफिंग कैंडलस्टिक पैटर्न एक तरह का डबल कैंडलस्टिक पैटर्न है जो एक लाल और एक हरा कैंडल के बनने से बनता है | 

इसमें पहले लाल कैंडल बनता है फिर अगले दिन गैप – डाउन होकर हरा कैंडल बनता है जिसका ओपनिंग प्राइस लाल कैंडल के क्लोजिंग प्राइस से कम रहता है और क्लोजिंग प्राइस लाल कैंडल के ओपनिंग प्राइस से ज़्यादा रहता है | 

Bullish engulfing pattern

इसमें जो हरा कैंडल बनता है उसमे अगर ऊपर तरफ शैडो जितना कम रहता है वह उतना अच्छा माना जाता है | ऐसा इसलिए क्यूंकि ऊपर शैडो नहीं होने से सेलिंग प्रेशर उसमे न के बराबर रहता है, जो मजबूत बुलिश ट्रेंड को दर्शाता है | 

ट्रेडर और निवेशक को ऐसी सलाह दी जाती है कि जब यह bullish engulfing pattern in hindi आपको दिखता है तो आपको इसमें लॉन्ग पोजीशन बनानी चाहिए | 

Bullish Engulfing pattern examples

Bullish engulfing pattern
Source – Investing.com

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न की साइकोलॉजी | Bullish Engulfing pattern Psychology

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न बनने के पहले डाउन ट्रेड रहता है और फिर गैप – डाउन होने के बाद एक बड़ा हरा कैंडल बनता है जो यह दर्शाता है कि बेयर अब कमजोर हो चुके हैं और अब यहाँ से बुल्स की पकड़ मजबूत होती दिख रही है | 

यह पैटर्न तभी ज़्यादा अच्छा माना जायेगा जब हरा कैंडल गैप – डाउन होने के बाद बने |

अगर हरा कैंडल गैप – अप या फिर उसी प्राइस पर खुलता है जो पिछेल दिन का क्लोजिंग प्राइस रहता है तो इसे बुलिश एंगलफिंग पैटर्न नहीं माना जायेगा | 

Bullish Engulfing Pattern vs. Bearish Engulfing Pattern

यह दोनों पैटर्न एक दुसरे एक बिलकुल अपोजिट पैटर्न हैं | बुलिश एंगलफिंग जहाँ अपट्रेंड की तरफ इशारा करता है वहीँ बेयरिश एंगलफिंग डाउन ट्रेंड की तरफ संकेत देता है | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न में पहले लाल और फिर हरा कैंडल बनता है पर बेयरिश एंगलफिंग में पहले हरा फिर उसके बाद एक बड़ा लाल कैंडल बनता है | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न को कैसे ट्रेड करें | How to trade Bullish Engulfing pattern

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न को ट्रेड करने के लिए आपको पहले कन्फर्मेशन का इंतज़ार करना है फिर उसके बाद आप उसमे आपने एंट्री और स्टॉप लॉस तय कर के ट्रेड ले सकते हैं | 

कन्फर्मेशन और एंट्री के लिए आप निचे दिए गए तरीकों का इस्तेमाल कर सकते हैं | 

Bullish Engulfing pattern confirmation

जब यह पैटर्न बन जाता है और दुसरे दिन जो भी कैंडल बनता है, अगर वह पिछले दिन के हाई को तोड़ देता है और ऊपर की तरफ क्लोजिंग देता है तो यह संकेत होता है कि यह पैटर्न सही है |  

कन्फर्मेशन के लिए आप वॉल्यूम को भी देख सकते हैं | अगर दुसरे दिन जब हरा कैंडल बनता है और उस दिन खरीदारी की वॉल्यूम ज़्यादा रहती है पिछले दिन के बिकवाली के वॉल्यूम से तो यह भी एक तरह का कन्फर्मेशन होता है कि ट्रेंड अब बदल सकता है | 

Bullish Engulfing pattern entry 

अब सवाल उठता है कि हमें इसमे कब एंट्री लेनी चाहिए | एंट्री आप हरी कैंडल के हाई के ब्रेक होने पर ले सकते हैं और स्टॉप लॉस आप हरे कैंडल के लो के निचे रख सकते हैं या फिर दोनों कैंडल में से जिसका भी लो सबसे कम होगा उसका स्टॉप – लॉस आप लगा सकते हैं | 

इसके अलावा अगर आपको इसमें जल्दी एंट्री लेना है तो आप दिन के क्लोजिंग के समय वॉल्यूम को देख कर भी एंट्री कर सकते हैं | 

अगर दिन के क्लोजिंग के समय बहुत ज़्यादा वॉल्यूम दिख रही है और एक बड़ा हरा वॉल्यूम का टावर बन रहा है तो आप उसमे एंट्री ले सकते हैं क्यूंकि बड़ा वॉल्यूम खरीदारी को दर्शाता है | 

अगर ज़्यादा वॉल्यूम रहता है तो ऐसा माना गया है कि अगले दिन भी वह ऊपर जायेगा | ज़्यादा वॉल्यूम स्टॉक के ऊपर जाने के संभावनाओं को बड़ा देते हैं | 

बुलिश एंगलफिंग पैटर्न के नुकशान | Disadvantages of Bullish Engulfing pattern

  1. यह पैटर्न तभी कारगर है जब  पहले वाला ट्रेंड डाउन ट्रेंड हो अगर मार्केट साइड वेज़ है तो यह पैटर्न उतना कारगर साबित नहीं होगा |  
  1. चूँकि एंगलफिंग पैटर्न में दूसरा कैंडल बड़ा कैंडल बनता है तो उसका स्टॉप लॉस भी बड़ा हो जाता है, जिससे सही रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो बैठता नहीं है | इसलिए यह पैटर्न देखकर ट्रेड करना थोड़ा परेशानी वाला हो सकता है | 
  1. इसमें आपको टारगेट तय करने में भी परेशानी आ सकती है क्यूंकि कैंडल पैटर्न से आप टारगेट नहीं निश्चित कर सकते हैं | टारगेट के लिए आपको दुसरे चीज़ों जैसे कि इंडीकेटर्स का सहारा लेना पड़ेगा उस ट्रेड से निकलने के लिए | 

FAQ

बुलिश कैंडलस्टिक पैटर्न कब बनता है ?

बुलिश कैंडलस्टिक पैटर्न डाउन ट्रेंड में भी बन सकता और साइडवेस ट्रेंड में भी बन सकता है |

Bullish engulfing पैटर्न कब अच्छे से काम करत है ?

जब यह सपोर्ट के पास बनता है तब यह पैटर्न अच्छे से काम करता है |

मेरा नाम कौशल कुमार है और मैं इस वेबसाईट का संस्थापक हूँ | मैं इस वेबसाईट के माध्यम से आप सभी को शेयर मार्केट की बारीक जानकारियों को बताना चाहता हूँ जिससे आप भी शेयर मार्केट से पैसे कमा सकें | मैं शेयर मार्केट में काफी समय से काम कर रहा हूँ और मेरा उद्देश है कि अपने अनुभव को आप तक पहुंचा सकूँ |